खेलकूददेवघर

देवघर : सफेद हाथी साबित हो रहा है स्टेडियम सह स्पोर्ट्स कंपलेक्स

बांका लाइव न्यूज़ ◆ ग्रामीण क्षेत्र में युवा वर्ग को खेलकूद के प्रति आकर्षित करने और इसके लिए उन्हें आधारभूत सुविधा उपलब्ध कराने के उद्येश्य से झारखंड सरकार द्वारा प्रखंड स्तर पर बड़ा स्टेडियम सहित स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स बनाने का निर्णय लिया गया. लाखों की लागत से देवघर के मोहनपुर में इस तरह के स्टेडियम का निर्माण कराया गया. लेकिन विभागीय लापरवाही के कारण यह स्टेडियम खेलकूद की गतिविधि की जगह अपराधियों का अड्डा बन गया है.
दूर से झाड़ियों के बीच भवननुमा दिखने वाला यह ढाँचा दरअसल देवघर के मोहनपुर का प्रखंड स्तरीय स्टेडियम है. वर्ष 2008-09 में खेलकूद और युवा मामलों के मंत्रालय द्वारा स्वीकृत लगभग 82 लाख की लागत से इसका निर्माण कराया गया था. विभागीय लापरवाही के कारण देखरेख के अभाव में यह स्टेडियम खंडहर में तब्दील हो गया. इसी वर्ष लगभग 20 लाख की राशि खर्च कर इसका रंग-रोगन और जिर्णोद्धार कराया गया. लेकिन देखरेख के अभाव में दोबारा चोरों ने यहाँ के खिड़की, दरवाजे और अन्य कीमती सामानों पर अपना हाथ साफ करना शुरु कर दिया है. खेलकूद के नाम पर इस तरह सरकारी राशि के दुरुपयोग की अब उच्च स्तरीय जाँच की मांग की जा रही है.
स्टेडियम निर्माण के नाम पर एक करोड़ से अधिक की राशि खर्च तो कर दी गई लेकिन मुख्य सड़क से स्टेडियम तक पहुंचने का रास्ता आजतक नहीं बना. राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार कार्यक्रम के तहत इस स्टेडियम का निर्माण कराया गया है. ऐसा नहीं है कि विभाग को इन सब बातों की जानकारी नहीं है, लेकिन हैरानी की बात है कि इसके स्थाई समाधान की दिशा में विभाग जरा भी गंभीर नहीं है.
अब गलती चाहे जिस स्तर से हुई हो देवघर में खास कर ग्रामीण क्षेत्र में खेल और खिलाड़ी के नाम पर किस तरह पैसे की बर्बादी का खेल हो रहा है, मोहनपुर का यह स्टेडियम इसका बड़ा उदाहरण है. देर से ही सही अब भी अगर सरकार की नींद खुले तो खास कर ग्रामीण क्षेत्र के युवा अपनी खेल प्रतिभा को निखारने में सफल हो पाएंगे.
Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close