अपराधबांका

BANKA : जांच के बाद छोड़ दिए गए रेहान और नौशाद, नहीं मिला कोई आतंकी कनेक्शन

बांका लाइव (ब्यूरो रिपोर्ट) : जांच में मो. रेहान और दानिश उर्फ नौशाद के विरुद्ध कोई आतंकी कनेक्शन नहीं मिल पाया। फलस्वरूप आज शाम पुलिस नेे उन्हें छोड़ दिया। पुलवामा हमला मामले में आतंकी कनेक्शन की आशंका को लेकर आयी खुफिया रिपोर्ट के बाद पुलिस नेे उन्हें गिरफ्तार किया था। दोनों से सघन पूछताछ की गई। पूछताछ के बाद कोई आतंकी कनेक्शन  स्थापित नहीं हो पाने की वजह से उन्हें छोड़ दिया गया।

दानिश उर्फ नौशाद (सिर पर टोपी) एवं रेहान

ज्ञात हो कि खुफिया रिपोर्ट में पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हुए आतंकी हमले का तार बांका से जुड़े होने की आशंका व्यक्त की गई थी। इसके बाद पूरे बिहार और झारखंड में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया था। प्रशासनिक महकमे में हड़कंप मच गया था। हर तरफ से कार्रवाई शुरू हो गई थी। खुफिया रिपोर्ट में बांका जिले के शंभूगंज थाना अंतर्गत बेलारी गांव की चर्चा की बात सामने आई थी। फलस्वरुप बांका पुलिस ने खास इनिशिएटिव लेते हुए ताबड़तोड़ छापामारी कर कल सुबह इस गांव के मो रेहान को हिरासत में ले लिया था।

मोहम्मद रेहान को हिरासत में लिए जाने के बाद उसकी पत्नी और मां भी पुलिस के साथ बाँका चली आई थी। इस बीच पुलिस को बेलारी गांव के मो दानिश उर्फ़ नौशाद की इसी मामले में सरगर्मी से तलाश थी। लेकिन वह अपने घर पर नहीं था। पुलिस ने कल शाम दोबारा बेलारी गांव में छापामारी कर नौशाद की पत्नी तथा बेटी को हिरासत में ले लिया। पुलिस ने उनसे भी पूछताछ की लेकिन कुछ हासिल नहीं हुआ।

आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक क्योंकि इस मामले को लेकर पूरे बिहार में सुरक्षा तंत्र हाई अलर्ट पर था, फलस्वरूप कल देर रात पटना से वापस लौटते हुए मो नौशाद को लखीसराय के आसपास पकड़ लिया गया। उससे पहले सूरजगढ़ा थाने में पूछताछ की गई। कई स्तरों पर पूछताछ के बाद उसे आज सुबह बाँका लाया गया, जहां पुलिस लाइन में रखकर उसे सघन पूछताछ की गई।

शाम तक चली इस पूछताछ में आखिरकार रेहान और नौशाद का कोई आतंकी कनेक्शन सामने नहीं आया। फलस्वरूप दोनों को पुलिस ने छोड़ दिया। साथ ही उन्हें लगातार पुलिस के संपर्क में रहने की भी हिदायत की गई। आधिकारिक तौर पर इस बात की पुष्टि की गई है। नौशाद की पत्नी और बेटी को आज सुबह ही उस वक्त छोड़ दिया गया था जब नौशाद को पुलिस हिरासत में यहां लाया गया था।

इस बीच एसपी स्वप्ना जी मेश्राम ने जिले के लोगों से भी इस बात की अपील की है कि ऐसे संवेदनशील मामले में सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते वक्त संयम बरतें। कोई भी ऐसी बात सोशल मीडिया पर नहीं हो जिससे अफवाहों को हवा मिलती हो। सोशल मीडिया पर ऐसी पोस्ट करने से भी बचने की हिमायत उन्होंने की जिससे सामाजिक सद्भाव और कानून व्यवस्था संधारण में प्रतिकूल असर पड़ता हो।

Related Articles

One Comment

  1. खुदा का लाख लाख शुक्र- बांका को बदनामी से बचाने के लिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close