बांकास्वास्थ्य

BANKA : मौसम के विचित्र और लगातार बदलते तेवर से आतंकित हैं लोग

बांका लाइव ब्यूरो : मई का महीना और सुबह घना कोहरा.. भला मौसम के इस विचित्र और बदलते तेवर से आतंकित क्यों ना हो लोग! उस पर भी बड़ी संख्या में मौसम की मार झेल कर बीमार पड़ रहे लोग.. तो आतंक के लिए और क्या जरूरी है!

कुछ इस तरह छा रहा सुबह बांका में कोहरा

दरअसल गत सप्ताह बंगाल की खाड़ी में उठे फोनी चक्रवात के दौरान इस क्षेत्र में में लगातार दो दिनों तक हुई बारिश और दो-तीन दिनों तक इसी वजह से मौसम के सुहानेपन का लुत्फ़ उठा चुके इस क्षेत्र के लोगों को एकाएक भीषण गर्मी, तेज धूप और लू की मार झेलनी पड़ रही है।

हिंदी कैलेंडर के मुताबिक वैशाख महीने का उत्तरार्ध चल रहा है। वैसे भी यह महीना भीषण गर्मी के लिए जाना जाता है। लेकिन मौसम के इस अप्रत्याशित, विचित्र और रोज रोज बदलते तेवर ने गर्मी की मार को कुछ ज्यादा ही मारक बना कर रख दिया है।

स्थिति यह है कि विगत दो दिनों से इस क्षेत्र में सुबह घने कोहरे के साथ होती है। कोहरा इतना घना की दिसंबर जनवरी महीने में सुबह होने वाले घने कोहरे को भी मात दे। कुछ घंटों के कोहरे के बाद सूरज के आसमान में चढ़ते जाने के साथ-साथ मौसम साफ होता है और इसके साथ ही गर्मी का जानलेवा असर भी लोगों को परेशान करने लगता है।

दोपहर तक धरती को जलाती धूप के साथ-साथ गर्मी चरम पर होती है। लोग घरों से बाहर नहीं निकल पा रहे। दोपहर में ही यहां सड़कों पर सन्नाटा पसर जाता है। स्कूल-कॉलेज, कोचिंग संस्थानों और सरकारी दफ्तरों में भी इस गर्मी में उपस्थिति प्रभावित हो रही है।

तापमान का पारा 43 डिग्री के आसपास चढ़ उतर रहा है। ऐसे में मौसमी बीमारियों का भी प्रकोप बढ़ा है। अस्पतालों और निजी क्लीनिकों में मरीजों की भीड़ बढ़ने लगी है। कुल मिलाकर मौसम के बदलते तेवर ने लोगों की जिंदगी परेशान कर रखी है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close